सोमवार, 11 जनवरी 2010

पृथ्वी की उर्वरा को निचोड़कर

आजकल सर्दी सब पर भारी है। बीच - बीच में घना कोहरा भी घिर आता है। आज तो पूरे दिन कोहरा बूँद - बूँद कर बरसता रहा। फिर भी सब कुछ अपनी चाल चल रहा है। अभी कुछ देर पहले ही कुछ लिखा है उसी का एक कवितानुमा हिस्सा साझा करते हैं सबके साथ :


सुन्दर - असुन्दर

जो सहा है
वही तो कहा है


फिर भी
जो अनकहा है
वही तो
कहने को मन कह रहा है।
* *
चलता रहेगा यूँ ही
सहना
कुछ कहना
और कुछ कहे के बावजूद
बहुत - बहुत कुछ बचा रहना।


अभी सर्दियों के दिन हैं
ठिठुरी कठुआई है धूप
मन्द पड़ गया है सूर्य का उत्ताप
कुहरे में समाया हुआ है संसार
फिर भी
साफ देखा जा सकता है-
क्या है सुन्दर और क्या है कुरूप ?
* * *
यह जाड़ा
यह ठंडक
यह सर्दी
पृथ्वी की उर्वरा को निचोड़कर
गेहूँ की फसल के हृदयस्थल में
जरूर ले आएगी सुडौल पुष्ट दाने।


नहरों - ट्यूबवेलों - कुओं का मीठा पानी
उनकी नसों में तेज कर देगा रक्तसंचार।
कुदाल थामे हाथों की तपिश
दिलासा देगी कि अब दूर नहीं है वसन्त।

----------

चित्र परिचय : अपनी छत से कुछ ऐसे ही दिखते हैं गेहूँ से हरियाए खेत और उनसे सटा जंगल।

8 टिप्‍पणियां:

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

". ... ... अब दूर नहीं है वसन्त!"
--
एक कवि कैसे करता है -
सबको गुमराह?
बता रही है -
इस कविता की यह अंतिम लाइन!
--
मैंने तो अभी-अभी देखा है -
उसके हृदय की घाटी में
दूर-दूर तक महकता-मुस्कराता
अभिनव वसंत!

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

संग गई सूरज के धूप आज पर्वत पर,
फ्रीज़र की कुल्फी-सा पका हुआ दिन!

Udan Tashtari ने कहा…

हमें पसंद आई..

रश्मि प्रभा... ने कहा…

bahut hi badhiyaa

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

यह जाड़ा
यह ठंडक
यह सर्दी
पृथ्वी की उर्वरा को निचोड़कर
गेहूँ की फसल के हृदयस्थल में
जरूर ले आएगी सुडौल पुष्ट दाने।

यक़ीनन ......हमें उम्मीद का दामन थामे रखना है ......!!

(कुछ तस्वीरें और लगाई हैं और भाग लेने वाले कवियों के नामों की सूचि भी लगाऊंगी ....!!)

सागर ने कहा…

bahut achcha likha hai... Ashavaad... positive...

एस. बी. सिंह ने कहा…

सुन्दर कविता! चित्र देख गेंहूं के खेत देखने का मन हो आया। फिलहाल तो दिल्ली की सर्दी झेल रहें हैं।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

दुख के बाद सुख की परिकल्पना का सुन्दर दृश्य!
सच ही तो है ठिठुरन के बाद ही बसन्त के आगमन के महत्व का भान होता है!
लोहिड़ी पर्व और मकर संक्रांति की
हार्दिक शुभकामनाएँ!