शनिवार, 31 दिसंबर 2011

आएगा अच्छा समय विश्वास है

आज साल २०११ का अंतिम दिन..दिन भी कहाँ..अब शाम रात होने की ओर अग्रसर है। कल से नया साल..नए साल का पहला दिन। माना कि बीते हुए लम्हों की कसक साथ तो होगी फिर भी ..आएगा अच्छा समय विश्वास है..। नए साल पर 'कर्मनाशा' के सभी मित्रों को शुभकामनायें - मुबारकबाद !

                                                                (चित्र : एम०जी० क्रिएशंस के शुभकामना संदेश से साभार)
नए साल पर..

सर्दियां आ गईं सुस्ताइए,
धूप को ओढिए बिछाइए।

बर्फ़ के बेदाग़ सफे पर अपना,
नाम लिखिए और भूल जाइए.


माना सचमुच ज़िंदगी है रंजोग़म,
फिर भी खुशियां बांटिए ग़म खाइए।

आएगा अच्छा समय विश्वास है,
बस इसी विश्वास में रम जाइए।

प्यार का एहसास एक अलाव है,
आग अपने प्यार की सुलगाइए।

हो मुबारक आपको यह साल !
कम से कम इस साल मत भरमाइए।






6 टिप्‍पणियां:

बाबुषा ने कहा…

Aha ! :-)

अजेय ने कहा…

बर्फ पर उस ने बहुत कुछ लिख रखा है कोई पढ़ने वाला चाहिए .... हेप्पी न्यू ईयर .

Ashok Bajaj ने कहा…

आपको नव-वर्ष 2012 की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !

दीपक बाबा ने कहा…

माना सचमुच ज़िंदगी है रंजोग़म,
फिर भी खुशियां बांटिए ग़म खाइए।

स्वप्नदर्शी ने कहा…

Happy New year..

Monika Jain "मिष्ठी" ने कहा…

happy new year..nice poem :)
Welcome to मिश्री की डली ज़िंदगी हो चली