शनिवार, 17 नवंबर 2007

पहली पहली पाती : सुन मेरे बन्धु ,पढ़ मेरे साथी


कर्मनाशा में सभी का स्वागत है ।

एक अनजानी ,अनचीन्ही -सी नदी का नाम है। देश -दुनिया के नक्शे को खंगालने , थोडा जूम करने पर संभव है कि इसकी निशानदेही का कुछ अनुमान हो जाय लेकिन इसमें दिलचस्पी कोई ठोस वजह तो होनी चाहिए ! यह अपनी कर्मनाशा कोई बड़ी ,वृहद,विशालकाय नदी तो है नहीं , छोटी-पतली-कृशकाय,अपने आप में सिमटी हुई । इसके तट पर न कोई नगर है ,न मंदिर , न कोई मठ न ही अन्य कोई पुण्य स्थल जहां साल -दो साल में कोई मेला -कौतुक लगे । और तो और इसके आजू-बाजू कोई बड़ा कल-कारखाना भी नहीं जिससे निकलने वाला कूड़ा-कचरा इसके `सौन्दर्य ´ को बनाता-बिगाड़ता हो ।

तो कर्मनाशा में है क्या ?इसका जवाब बड़ा सीधा-सा है मामूली चीजों में आखिर होता क्या है ।उनका मामूली होना ही उन्हें खास बनाता है । ऐसा मेरा मानना है । अपने मानने न मानने को साझा करने की चाह है और यह ब्लाग उसी की एक राह है ।

बहुत सारे करम किए
कुछ छोटे ,कुछ बड़े ,कुछ आम,कुछ खास
बुन न सका लाज ढांपने भर को कपड़ा
कातता ही रह गया मन भर कपास ।


खूब सारी मिट्टी गोड़ी
खूब निराई खरपतवार
खूब छींटे किसिम -किसिम के बीज
पर उगा न एक भी बिरवा छतनार ।


फिर भी क्या सब अकारथ
सब बेकार ???

4 टिप्‍पणियां:

Ashok Pande ने कहा…

सुबह भी मैंने एक टिप्पणी लगाने की कोशिश की थी। पता नहीं क्या हुआ। अच्छी शुरुआत है। कर्मनाशा को लेकर प्रचलित किम्वदंतियों और लोकगाथाओं को भी जल्दी लगाओ दोस्त।

दीपा पाठक ने कहा…

न बंधु, किया हुआ कुछ भी अकारण नहीं जाता। यह बात अलग है कि अक्सर आंकना मुश्किल होता है कि कुछ सार्थक कर भी पाए या नहीं। लेकिन अगर बीज बोया है तो बिरवा तो उगेगा ही। जरूरी बात है मिट्टी गोङना, खरपतवार निकालना और बीज डालना।

ANUNAAD ने कहा…

पांव लागी जवाहिर चा। ब्लाग की बधाई
भतीजा शिरीष

Basant Arya ने कहा…

आते ही धमाल ? कमाल है भाई सच मे कमाल