रविवार, 3 जुलाई 2011

सतत रक्तस्रावित पाटल - सदृश निज हृदय

ग्राज़्यना क्रोस्तोवस्का ( २१ अक्टूबर १९२१ - १८ अप्रेल १९४२  ) की कुछ कवितायें आप  यहाँ पहले भी पढ़ चुके हैं। आधुनिक पोलिश कविता के बड़े नामों  से अलग यह एक ऐसा नाम है जिसके बारे में जानकारी प्राय: अल्प है। नाज़ी जर्मनी के काल में वह भूमिगत  तरीके  से प्रतिरोध की मुहिम में संलग्न रही। अवैधानिक घोषित किए गए पत्र  'पोलैंड लाइव्स'  के वितरण के काम  को उसने अंजाम दिया। ८ मई १९४१ को  उसे गिरफ़्तार विशेष रूप से स्त्री बंदियों के लिए बनाए गए रावेन्सब्रुक ( जर्मनी ) के यातना शिविर में डाल दिया गया। वहीं १८ अप्रेल १९४२ को  अन्य ११ स्त्री बंदियों के साथ फायरिंग स्क्वाड द्वारा मृत्य की ओर धकेल  दिया गया।रावेन्सब्रुक  के बंदी जीवन के दौरान ग्राज़्यना  क्रोस्तोवस्का ने  कवितायें लिखी थीं जिनमें से कुछ का प्रसारण १९४३ में कैंप के मुताल्लिक एक समाचार में  बीबीसी से हुआ था। मात्र इक्कीस बरस का लघु जीवन जीने वाली इस कवयित्री की कविताओं से गुजरते हुए साफ लगता है कि वह तो अभी ठीक तरीके से इस दुनिया के सुख - दु:ख और छल -प्रपंच को समझ भी नहीं पाई थी कि अवसान की घड़ी आ गई। इस युवा कवि की कविताओं में सपनों के बिखराव से व्याप्त उदासी और तन्हाई से उपजी की तड़प के साथ एक सुन्दर संसार के निर्माण की आकांक्षा को साफ देखा जा सकता है। आइए आज साझा करते हैं ग्राज़्यना क्रोस्तोवस्का  की दो कवितायें :



दो कवितायें : ग्राज़्यना क्रोस्तोवस्का 
( अनुवाद : सिद्धेश्वर सिंह )

०१- स्वप्न

एक स्वप्न हुआ करता था मेरे पास
जिसमें तुम बाँच रहे होते थे अपनी कवितायें  
जैसे कि वे लिखे गए हों
किसी व्यतीत समय में।
जैसे कि वे दर्ज हों
मृत्यु के बाद  किसी भूरी पोथी में।

तुम नजर आते जाते हो
और महीन
और पीले
और लघुकाय
अंतत: हो जाते हो अदृश्य।

सबसे आखीर में
गायब होते हैं तुम्हारे हाथ
और बिना किसी नुकसान के
बची रह जाती हैं कवितायें।

और कविताओं की काया में
बचा रहता है किसी का हृदय।

०२- गवाक्ष के उस पार

उन्मुक्त - आह्लादित अंधड़ के बीच
पवन दोलायमान है
गवाक्ष के उस  पार।
लेकिन सलाखों के पीछे
कम से कम
इसे तुम सुन तो  सकते हो।

जीवन :  जरा सोचो
मात्र बीस बरस के वयस का  जीवन
और अपनी रातों के स्वप्न
डूबते जा रहे हैं लगातार
अभी तक :  कुछ नहीं
कैसा दिखाई देगा संसार
जिसे देखते चले आए थे हम?

मैं छिपाती हूँ
दुख में डूबा
सतत रक्तस्रावित पाटल - सदृश निज हृदय
लेकिन अगर हृदय हो  खाली
तो क्या होना चाहिए मुझे पछतावा?
-----
( मेरे द्वारा अनूदित ग्राज़्यना क्रोस्तोवस्का की कुछ कवितायें  कोलकाता  से सद्य: प्रकाशित  कविता केंद्रित पत्रिका  'अक्षर'  के प्रवेशांक में प्रकाशित हुई  हैं )
 

4 टिप्‍पणियां:

मनोज कुमार ने कहा…

बहुत अच्छा अनुवाद और कविताएं भी।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

कविता के शब्दों में न जाने कितनों की आत्मायें बसती हैं।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बेहतरीन अनुवाद!

Rakesh Kumar ने कहा…

सुन्दर अनुवाद जिसमें कवि के भाव स्पष्ट परिलक्षित हो रहें हैं.
अनुपम प्रस्तुति के लिए बधाई.
मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है.