रविवार, 28 अगस्त 2011

इच्छाओं का जंगल और विराम से बाहर



इच्छाओं के जंगल में
दौड़ता  फिरता है मन बावरा
कहीं ओर न छोर
बस रास्ते ही रास्ते हर ओर 
एक दूसरे में गुम होता
जंगल हरा - भरा..

इस बीच लंबा गोता लग गया , शायद लंबा और गहरा भी। महीने भर से अधिक का ब्लॉग - विराम। इस ठिकाने पर पिछली पोस्ट १८ जुलाई को आई थी और आज २८ अगस्त है। इस बीच खूब यात्रायें हुई , खूब थकान और खूब काम व चाहा - अनचाहा आराम भी। इस बीच देश - दुनिया में खूब उथल - पुथल रही। बीती शाम टीवी पर समाचार देखते हुए  मुझे बरबस एक गाना याद आ गया : आधा है चन्द्रमा रात आधी ..। इसके साथ यह भी याद आया कि कितने - कितने दिन हो गए कायदे से गाना सुने हुए , साझा किए हुए और तसव्वुरे जानां किए हुए... और यह भी कि लिखत - पढ़त का काम भी इस बीच बिल्कुल हुआ ही नहीं। कई मित्रों से वादा था कि उन्हें कुछ  भेजना है  लेकिन स्थितियाँ कुछ ऐसी बनीं कि  हो न सका..खैर..ग़ालिबे खस्त: के बगैर कौन से काम बंद है...! 

कब होता है मनचाहा
कब खुलती है 
नदी की धार में  अपनी - सी नाव
कब थमता है
अपने इशारों पर  समय का बहाव..

आज इतवार है। आज छुट्टी का दिन है। आज सुबह से सब आराम से चल रहा है। आज कुछ पढ़ा और अपनी पसंद का संगीत सुना भी।शाम को बेमकसद आवारगी भी की। आवारगी और बेमकसद...! आज रेशमा जी को सुना। रेशमा की आवाज मानो रेत के वन में एक करुण पुकार...। यह वही आवाज है जो आज से कई दशक पहले  सुनी थी पहली बार.. चार दिनाँ दा प्यार ओ रब्बा... और  लगातार कई - कई  रूपों में आती रही है अब तक। इब्ने इंशा की शायरी  मेरे हमदम मेरे दोस्त  की  तरह सगी - साथी है क्योंकि वह अपने मिजाज के साथ साधारणीकृत  होती लगती है। आज इस ठिकाने के विराम को अपने पसंदीदा शायर के शब्द और पसंदीदा आवाज की मलिका के स्वर से तोड़ने का मन है। आइए पढ़ते - सुनते हैं यह ग़ज़ल..शब्द इब्ने इंशा के और स्वर रेशमा जी का : 


देख हमारे माथे पर ये दश्त-ए-तलब की धूल मियाँ।
हम से है तेरा दर्द का नाता, देख हमें मत भूल मियाँ।

अहले वफ़ा से बात न करना होगा तेरा उसूल मियाँ।
हम क्यों छोड़ें इन गलियों के फेरों का मामूल मियाँ।

ये तो कहो कभी इश्क़ किया है, जग में हुए हो रुसवा भी,
इस के सिवा हम कुछ भी न पूछें, बाक़ी बात फ़िज़ूल मियाँ।

अब तो हमें मंज़ूर है ये भी, शहर से निकलें रुसवा हों,
तुझ को देखा, बातें कर लीं, मेहनत हुई वसूल मियाँ।

11 टिप्‍पणियां:

पारुल "पुखराज" ने कहा…

अरसे बाद यहाँ सुर सजे ...

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

वापस आ जाने का सुख सब जुदाईयों पर भारी पड़ता है।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत खूब।
पढ़-सुनकर आनन्द आ गया।
बहुत दिनों से प्रतीक्षा थी आपकी पोस्ट की!

Arvind Mishra ने कहा…

आज की सुबह आपने बना दी

पारुल "पुखराज" ने कहा…

हम से है तेरा दर्द का नाता, देख हमें मत भूल मियाँ।
subah aakar vapas suni

aabhaar

Archana ने कहा…

शास्त्री जी के यहाँ की चाय पर ही कल आपकी याद आई और कल तो नहीं पर आज चली आई...और तोहफ़ा मिला...शुक्रिया..

डॉ .अनुराग ने कहा…

शुक्रिया.......इस शानदार गजल के लिए...

Navin C. Chaturvedi ने कहा…

क्या शब्द और क्या स्वर, वाह आनंद आ गया

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

आनन्द आ गया!

Mired Mirage ने कहा…

मधुर गीत सुनवाने के लिए आभार.
घुघूती बासूती

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

लाजवाब ग़ज़ल.....सिधेश्वेर जी ....
आज अचानक आपके ब्लॉग पे आना हुआ .....
निचे देखा आप क्षणिकायें भी लिखते हैं ....

आपसे अनुरोध है अपनी कुछ (१०,१२) क्षणिकायें मुझे 'सरस्वती-सुमन' पत्रिका के लिए दें ..जो की क्षणिका विशेषांक निकल रहा है ....
यह अंक संग्रहणीय होगा ....
साथ में अपना संक्षिप्त परिचय और तस्वीर भी ....
इन्तजार रहेगा ....

harkirathaqeer@gmail.com