रविवार, 22 जून 2008

उषादेवी मित्रा की कहानी 'भूल' का एक जरुरी जिक्र


हिन्दी साहित्य के अध्ययन-अध्यापन की जो परिपाटी हमारे विश्वविद्यालयों में चली आ रही है,जिसकी लगातार आलोचना भी होती रही है ,उसका परिदृश्य कुछ ऐसा है कि मानो बंग महिला के बाद हिन्दी गद्य सहित्य के विस्तार में शिवरानी देवी,सुभद्रा कुमारी चौहान ,महादेवी वर्मा जैसी एक-दो लेखिकाओं के अतिरिक्त मानो स्त्री लेखकों का अभाव और अकाल है और उनका वास्तविक आगमन आजादी के बाद के दौर में ही होता है.जबकि सच्चाई इससे विलग तथा विपरीत है.हिन्दी कथा साहित्य के पहले तथा दूसरे दौर में कथा लेखिकाओं की कमी नहीं है यशोदा देवी, श्रीमती जमुना देवी, श्रीमती रामप्यारी देवी, श्रीमती सु्शीला देवी, श्रीमती कृष्ण कला, श्रीमती सम्प्रिया देवी, श्रीमती गायत्री देवी, श्रीमती हुक्म देवी गुप्ता, श्रीमती विद्यावती, ठकुरानी शिवमोहिनी, तोरन देवी शु्क्ल 'लली', श्यामपियारी सेठ जैसी अनेक लेखिकायें अपनी आमद दर्ज कर रही थीं. यह दीगर बात है कि उसे रेखांकित किये जाने और अलग से पहचाने जाने की पहल को वे पस्तुत कर पाने में सफल नहीं हो सकी थीं.पहली बात तो यह कि तब तक कहानी -उपन्यास को भद्रलोक की स्वीकार योग्य पठनीय स्वीकृति भी कायदे से नहीं मिल सकी थी और दूसरी बात यह कि कथा साहित्य से,विशेषकर स्त्रियों द्वारा लिखे जा रहे कथा साहित्य से 'स्त्रियोपयोगी' होने उम्मीद चरम पर थी जिसका सिरा काफी हद तक 'आर्य्यललना' के चरित्र निर्माण की अपेक्षा से जुड़ता दिखाई देता था तथा उसके 'अंग्रेज रमणी' बन जाने का संकट अब भी आसन्न था. पहले-दूसरे दौर की लेखिकाओं की बनाई जमीन पर ही आगे चलकर सुभद्राकुमारी चौहान, महादेवी वर्मा, चंद्रकिरण सौनरेक्सा, शिवरानी देवी, होमवती देवी, सुमित्रा कुमारी सिन्हा, कमला चौधरी, हेमलता पंत, उषादेवी मित्रा जैसे अनेक हस्ताक्षर स्पष्ट और उजले रूप में प्रकट होते हैं. यहां पर यह उल्लेखनीय है कि रचनात्मक स्तर पर स्त्री कथालेखन को उस दौर में स्वीकर तो कर लिया गया था किन्तु इतिहास और आलोचना के स्तर पर उसकी सहज स्वीकार्यता निर्मित्त नहीं हो पाई थी.यह एक एक पूरक या सप्लीमेंटरी लेखन भर ही था.आज का परिदृश्य अलग है तो उसकी वजह यह है कि इतिहास और आलोचना के धरातल पर भी स्त्रियों ने केवल अपनी जमीन तैयार की है बल्कि वे बने -बनाये चौखटे को तोड़ते हुए अपनी जमीन की चौकस रखवाली और निरंतर जरूरी निराई-गुड़ाई के काम में भी मुस्तैद हैं..नई जमीन में उनकी खेती तो नई है ही,नये बीज -खाद-पानी-हवा के साथ ही औजार,हरबे-हथियार भी नये,आधुनिक और उम्दा किस्म के हैं.

उषादेवी मित्रा हिन्दी कथा साहित्य के आरंभिक दौर की एक महत्वपूर्ण लेखिका हैं,मात्र इसलिए नहीं कि उन्होंने अपने समकालीनों से परिमाण मे अधिक लिखा है बल्कि इसलिये कि वह् कहानी लेखन क युगीन मुख्यधारा से अलग और आज के विमर्श में रेखांकित किये जने हेतु आवश्यक लगती हैं. हिन्दी साहित्य को उन्होंने 'वचन का मोल','नष्ट नीड़'और 'सोहनी' जैसे उपन्यासों के अतिरिक्त 'संध्या','पूर्वी','रात की रानी','मेघ मल्हार','महावर''रागिनी' जैसे कहानी संग्रह दिये हैं. उनकी कहानियां भावुकता के द्वन्द्व से विलग नहीं है न तो कथ्य के स्तर पर और न ही भाषा के स्तर पर पर फिर भी वे इस दृष्टि से अलग है कि उनमे स्त्री की नई सोच की आहट है जो स्पष्ट रूप से सुनी जा सकती है.यह अलग प्रश्न है वह आहट अपने नाद- अनुनाद के साथ कुछ दूर चलकर सन्नाटे में तिरोहित हो जाती है किंतु यह क्या कम बड़ी बात है कि है सन्नाटे के विरुद्ध एक प्रश्नवाचक स्वर छोड़ जाती है.बात को स्पष्ट करने के प्रयास में मैं यहां पर उषादेवी मित्रा की एक कहानी 'भूल' का जिक्र कर रहा हूं.

चार पृष्ठों की एक छोटी-सी कहानी 'भूल'के पांच हिस्से हैं.पहले -दूसरे हिस्से में 'हरप्रसाद पांडेय की मंझली पुत्रवधू सुप्रभा जैसी सहनशील कर्मिष्ठ नारी' के वैध्व्य की कथा है जो एकादशी के व्रत में मारे ज्वर के गला तर करने के लिये महरी के हाथ का पानी पीकर अपना धरम बिगाड़ लेती है.जब महरि से पूछा जता है कि 'तूने जान-बूझकर क्यों बहू क धरम बिगाड़ा 'तो उसका उत्तर है-'वह मर जो रही थी.पानी-पानी करके तो उसकी दम निकली जा रही थी.तुम्हारे धरम से मेरा धरम से मेरा धरम लाखगुना अच्छा'. अब प्रायश्चित की बारी है.सुप्रभा का प्रश्न है- 'क्यों,मेरा अपराध क्या है? मैं प्रायश्चित न करूंगी'.सुप्रभा स्वयं को अपराधी नहीं मानती.इसके बाद वह 'वह पूजा-पाठ छोड़ देती है,श्रंगार करती है,एक कहो तो हजार सुनाती है.जो एक दिन बिल्ली जैसी दबी रहती थी ,वह शेर हो जाती है.'कहानी के आखिरी हिस्से में सुप्रभा और दिवाली छुट्टी में आई अपने पति किशोर के साथ आई उसकी देवरानी दयारानी का संवाद है जिसमें एक प्रश्न उभरता है-'क्या भूल को भूल कभी जीत सकती है? 'ऐसे प्रश्न से सुप्रभा अपरिचित थी .वह विस्मय से आकुल होकर सोचने लगी -क्या भूल को भूल कभी जीत सकती है? कहानी यहीं खत्म होती है किन्तु एक प्रश्न के शुरुआत के साथ.मेरी दृष्टि में यह एक युगीन प्रश्न है-एक बनते हुए स्पेस के युग का प्रश्न.सुविधा के लिए चाहें तो इसे उहापोह या दुचित्तापनका प्रश्न भी कह सकते हैं. यह संयोग नही है कि हिन्दी कहानी में यह प्रश्न बार-बार दोहराया जाता रहा है.नई कहानी और उसके बाद की कहानी में भी यह प्रश्न अनुपस्थित नहीं है.इस लिहाज से मैं उषादेवी मित्रा की इस छोटी-सी कहानी को एक बड़ी और विशिष्ट कहानी मानता हूं.

3 टिप्‍पणियां:

Satish Yadav ने कहा…

कहानी चर्चा में ईतनी सारी साहित्यिक जानकारी के लिऐ धन्यवाद वर्ना अक्सर साहित्य पीछे रह जाता है और बेकार की बातें चर्चाओं पर हावी हो जाती हैं।

अनुनाद सिंह ने कहा…

आपका यह लेख मुझे बहुत पसन्द आया। विशेषरूप से इसलिये कि इसमें मुझे नयी जानकारी मिली। मुझे नहीं पता था कि इतनी सारी लेखिकाओं ने हिन्दी साहित्य में योगदान दिया है।

हिन्दी में ऐसे ही उट्कृष्ट विचारसम्पन्न लेख आयेंगे तो कचड़ा लेखक अपने-आप अपना बोरिया बिस्तर समेट लेंगे।

अपराजिता ने कहा…

आपके विचारों से मैं पूर्ण सहमत हूं.